--Advertisement--

अमेरिकी मीडिया ग्रुप सीबीएस के चेयरमैन मूनवेस ने दिया इस्तीफा, यौन शोषण के लगे थे आरोप

मीटू कैंपेन के लिए 20 मिलियन डॉलर (145 करोड़ रु.) देने वाले थे लेस्ली मूनवेस

Danik Bhaskar | Sep 10, 2018, 12:59 PM IST
.. ..

न्यूयॉर्क. अमेरिका के एक प्रमुख मीडिया ग्रुप सीबीएस के सीईओ लेस्ली मूनवेस (68) ने इस्तीफा दे दिया। मीटू (MeToo) कैंपेन के तहत महिलाओं ने मूनवेस पर जुलाई में यौन शोषण के आरोप लगाए थे। आरोप लगने के पहले तक मूनवेस का हॉलीवुड में भी काफी सम्मान था। न्यूयॉर्कर मैगजीन ने दो लेख छापे थे, जिसमें 12 महिलाओं ने उन पर यौन शोषण के आरोप लगाए थे।

जिस वक्त सीबीएस ने मूनवेस को कंपनी के चेयरमैन, प्रेसिडेंट और सीईओ पद से हटाने का ऐलान किया, उसके कुछ देर बाद ही मूनवेस और कंपनी मीटू कैंपेन के लिए 20 मिलियन डॉलर (145 करोड़ रु.) देने वाले थे।

मूनवेस को कोई पैसा नहीं मिलेगा : मूनवेस की जगह फिलहाल चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर जोसेफ इयानिएलो को जिम्मेदारी सौंपी गई है। कंपनी का कहना है कि मीटू कैंपेन के लिए दान किए जाने वाले पैसे मूनवेस के बकाए से काटे जा सकते हैं। कंपनी के मुताबिक, मूनवेस पर लगे आरोपों की एक लॉ फर्म द्वारा जांच कराई जा रही है। फिलहाल उन्हें नौकरी छोड़ने के बाद मिलने वाली किसी भी तरह की रकम नहीं मिलेगी। भविष्य में मिलने वाले फायदे का फैसला भी रिपोर्ट के आधार पर होगा। कॉन्ट्रैक्ट के मुताबिक, नौकरी छोड़ने के बाद मूनवेस को मिलने वाली रकम 100 से 180 मिलियन डॉलर (1305 करोड़ रु.) थी। जांच होने तक उन्हें किसी तरह का बोनस भी नहीं मिलेगा।

पुलित्जर विजेता जर्नलिस्ट का खुलासा : जेसिका पेलिंगटन नामक महिला ने पुलित्जर पुरस्कार विजेता जर्नलिस्ट रोनेन फैरो को मूनवेस द्वारा किए शोषण के बारे में बताया था। बाद में फैरो ने आरोपों पर आधारित लेख को न्यूयॉर्कर मैगजीन में छापा। फैरो ने ही हॉलीवुड के जाने-माने प्रोड्यूसर हार्वे वीनस्टीन के महिलाओं के साथ किए यौन शोषण खुलासा किया था। इसके बाद ही महिलाओं ने मीटू कैंपेन (खुद के साथ हुए शोषण) चलाया था। मूनवेस ने 1995 में सीबीएस टेलीविजन ज्वाइन किया था। उनकी टीम ने कई हिट शो फ्रेंड्स और ईआर बनाए। 1998 में कंपनी ने उन्हें सीईओ और 2003 में चेयरमैन बना दिया।