2016 में ट्रम्प के चुनाव जीतने के बाद सुंदर पिचाई ने कहा था- गूगल में डर का माहौल / 2016 में ट्रम्प के चुनाव जीतने के बाद सुंदर पिचाई ने कहा था- गूगल में डर का माहौल

ट्रम्प के कैंपेन मैनेजर ने मामले का स्पष्टीकरण देने को कहा

DainikBhaskar.com

Sep 13, 2018, 04:07 PM IST
in leaked video googles sunder pichai says a lot of fear within company

ट्रम्प के बेटे ने कहा- गूगल ही तय करता है कि लोग क्या देखें, ये उनकी मोनोपॉली
गूगल ने सफाई दी- संस्थान में कोई भी अपनी बात रखने के लिए स्वतंत्र

वॉशिंगटन. गूगल के टॉप एग्जीक्यूटिव की बातचीत का एक वीडियो सामने आया है। वीडियो 2016 में डोनाल्ड ट्रम्प के राष्ट्रपति चुनाव जीतने के बाद का है। वीडियो में गूगल की पेरेंट कंपनी अल्फाबेट के प्रेसिडेंट सर्गेई ब्रिन, चीफ एग्जीक्यूटिव सुंदर पिचाई प्राइवेट मीटिंग में स्टाफ से बात कर रहे हैं। इसमें पिचाई ने कहा था कि ट्रम्प की जीत की वजह से गूगल में डर का माहौल है।

गूगल की वाइस प्रेसिडेंट (पीपुल ऑपरेशन) इलीन नॉटन ने बताया कि ट्रम्प के राष्ट्रपति चुने जाने के पहले गूगल के एग्जीक्यूटिव्ज ने अप्रवासी कर्मचारियों को नई सरकार के नियमों के बारे में बताया था।

'ट्रम्प का कद घटाने की कोशिश': गूगल के एग्जीक्यूटिव्ज की बातचीत का वीडियो ब्रीटबर्ट न्यूज ने जारी किया। रिपब्लिकंस का कहना है कि गूगल ट्रम्प को कमतर दिखाने की कोशिश कर रहा है। कुछ अफसरों ने मामले की जांच कराने का भी सुझाव दिया। डोनाल्ड ट्रम्प जूनियर ने ट्वीट किया- सर्च की जा रही चीजों पर उनका (गूगल) का 91% नियंत्रण रहता है। वे ही तय करते हैं कि लोग क्या देखें। अगर ये मोनोपॉली नहीं है तो फिर क्या है?

'मामले की जांच हो': ट्रम्प के कैंपेन मैनेजर ब्रेड पार्स्केल ने कहा- गूगल को स्पष्टीकरण देना चाहिए कि इसे (वीडियो को) देश के लिए धमकी क्यों न माना जाए? पार्स्केल ने ट्वीट किया- संसद में सुनवाई हो, जांच हो।
गूगल की प्रवक्ता रीवा श्यूटो ने जवाब में कहा- 20 सालों से गूगल की मीटिंग में कोई भी अपने विचार रखने के लिए स्वतंत्र है। दो साल पहले की मीटिंग में भी कुछ गलत नहीं कहा गया। हमारे प्रति कोई गलत राजनीतिक धारणा न बनाई जाए।

X
in leaked video googles sunder pichai says a lot of fear within company
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना