पाक में खुद चुनाव नहीं लड़ेगा हाफिज, 200 सीटों पर आतंकी संगठन जमात-उद-दावा के उम्मीदवार उतारेगा

जमात-उद-दावा की राजनीतिक पार्टी का नाम मिल्ली मुस्लिम लीग है। पाक चुनाव आयोग में ये पार्टी रजिस्टर्ड नहीं है।

DainikBhaskar.com| Last Modified - Jun 09, 2018, 11:04 AM IST

1 of
pak General elections Saeed not to contest JuD to run for over 200 seats
जमात-उद-दावा के उम्मीदवारों ने चुनाव आयोग से नॉमिनेशन पेपर ले लिए हैं। - फाइल

 

  • पाक के संविधान के मुताबिक, सरकार का कार्यकाल खत्म होने के 60 दिन में चुनाव कराने होते हैं
  • पाक की मौजूदा सरकार का कार्यकाल 31 मई को पूरा हो गया था

 

लाहौर.  पाकिस्तान में 25 जुलाई को आम चुनाव होने हैं। 26/11 मुंबई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड हाफिज सईद इस चुनाव में हिस्सा नहीं लेगा। हालांकि, इस चुनाव में जमात-उद-दावा के 200 उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे। लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ा आतंकी संगठन जमात-उद-दावा की राजनीतिक पार्टी का नाम मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) है। ये पार्टी अभी तक पाक चुनाव आयोग में रजिस्टर्ड नहीं है। इसलिए सईद ने निष्क्रिय राजनीतिक पार्टी अल्लाह-हू-अकबर तहरीक (एएटी) से अपने उम्मीदवार उतारने का ऐलान किया है। बता दें सईद जमात-उद-दावा का चीफ है। वह लश्कर-ए-तैयबा का को-फाउंडर भी है।

 

 

अल्लाह-हू-अकबर तहरीक पार्टी से लड़ेंगे चुनाव

- चुनाव आयोग में जमात-उद-दावा की पार्टी अभी तक रजिस्टर्ड नहीं है, इसलिए सईद ने अपने उम्मीदवारों को एक निष्क्रिय राजनीतिक पार्टी अल्लाह-हू-अकबर तहरीक (एएटी) से मैदान में उतारने का फैसला किया है। ये पार्टी पाक चुनाव आयोग में रजिस्टर्ड है। 

- जमात-उद-दावा के उम्मीदवारों ने चुनाव आयोग से नॉमिनेशन पेपर ले लिए हैं। वे अल्लाह-हू-अकबर तहरीक (एएटी) पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे। 

- मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) के प्रवक्ता अहमद नदीम ने न्यूज एजेंसी को बताया कि एमएमएल के अध्यक्ष सैफुल्लाह खालिद और एएटी के सदर अहसान बारी गठबंधन के लिए तैयार हैं। सीटों के बंटवारे को लेकर उन्होंने कहा कि एमएमएल अपने 200 उम्मीदवार उतारेगा। एमएमएल के उम्मीदवार एएटी के चुनाव चिह्न पर आम चुनाव में मैदान में उतरेंगे। कई राजनेता एमएमएल से जुड़े हैं, जो एएटी के टिकट पर चुनाव लड़ेंगे। 

 

सईद नहीं लड़ेगा चुनाव

- सईद के आम चुनाव लड़ने का सवाल पूछे जाने पर प्रवक्ता नदीम ने कहा कि आम चुनाव में सईद बतौर उम्मीदवार शामिल नहीं होंगे। फिलहाल उनका चुनाव लड़ने का कोई इरादा नहीं है। एमएमएल पहली बार चुनाव में शामिल हो रही है। हमें उम्मीद है हम आम चुनाव में जीत हासिल कर संसद में जाएंगे।

 

पढ़े-लिखे लोगों को मिलेगा टिकट

- जमात-उद-दावा से किसी महत्वपूर्ण नेता के चुनाव लड़े जाने के सवाल पर नदीम ने कहा कि हमारी प्रथमिकता पढ़े-लिखे युवाओं और दूसरे राजनीतिक दलों के जो नेता हमारी पार्टी में आ रहे हैं उन्हें एएटी का टिकट देना है। हमारे उम्मीदवारों के नामांकन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद हम चुनाव अभियान शुरू करेंगे। हमें उम्मीद है कि जनता हमारे उम्मीदवारों को चुनेगी। 

- एमएमएल के अध्यक्ष  सैफुल्लाह खालिद ने पहले कहा था कि हम 25 जुलाई को होने वाले आम चुनाव में एएटी के उम्मीदवारों का समर्थन करेंगे। बीते 11 महीने में पाकिस्तान चुनाव आयोग ने एमएमएल का रजिस्ट्रेशन करने से इनकार कर दिया। लेकिन हम एएटी के उम्मीदवारों को चुनाव में सपोर्ट देंगे। 

 

2017 में वजूद में आई एमएमएल

- 2017 में जमात-उद-दावा ने मुस्लिम मिल्ली लीग का गठन किया था। पिछले साल ही 30 जनवरी को हाफिज सईद को लाहौर में हिरासत में लिया गया था। हाफिज और उसके चार साथी अब्दुल्ला उबेद, मलिक जफर इकबाल, अब्दुल रहमान आबिद और काजी काशिफ हुसैन को घर में नजरबंद किया गया था।

- हाफिज जमात-उद-दावा का प्रमुख है और अमेरिका ने उसे अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करते हुए 1 करोड़ डॉलर का इनाम रखा है। 

 

31 मई को खत्म हुआ सरकार का कार्यकाल

- बता दें पाकिस्तान में मौजूदा सरकार का कार्यकाल 31 मई को खत्म हो चुका है। फिलहाल पूर्व मुख्य न्यायाधीश नसीरुल मुल्क को वहां का कार्यवाहक प्रधानमंत्री चुना गया है। पाकिस्तान के संविधान में सरकार का कार्यकाल खत्म होने के 60 दिन में चुनाव कराने होते हैं।

 

pak General elections Saeed not to contest JuD to run for over 200 seats
26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने मुंबई के ताज होटल में बम धमाके किए थे। जिसमें 166 लोगों की मौत हुई थी। -फाइल

 

prev
next
Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now