ट्रम्प ने व्हाइट हाउस में पहली बार दी इफ्तार, पिछले साल पार्टी न देकर तोड़ी थी 3 दशक पुरानी परंपरा

ट्रम्प ने 2017 में 1990 के दशक से जारी इफ्तार पार्टी की परंपरा को खत्म करने का ऐलान किया था।

DainikBhaskar.com| Last Modified - Jun 07, 2018, 02:20 PM IST

1 of
Trump hosts first iftar dinner white house seeks co operation from Muslim world
1990 के दशक में बिल क्लिंटन ने इफ्तार पार्टी की औपचारिक शुरुआत की थी।

 

  • 13 से ज्यादा मुस्लिम देशों के राजदूतों को इफ्तार के लिए आमंत्रित किया गया
  • विरोध में कई मुस्लिम संगठनों ने व्हाइट हाउस के बाहर प्रदर्शन किया 

 

 

 

 

 

वाशिंगटन.  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने बुधवार को व्हाइट हाउस में पहली बार इफ्तार पार्टी रखी। इस दौरान उन्होंने मुस्लिम समाज से देश-दुनिया की सुरक्षा और खुशहाली लाने के लिए मदद की अपील की। उनकी इस पहल ने सभी को चौंका दिया। दरअसल, वे मुस्लिम विरोधी बयानों और फैसलों के लिए चर्चा में रहे हैं। पिछले साल उन्होंने करीब तीन दशक से जारी सालाना इफ्तार पार्टी की परंपरा खत्म कर दी थी।

 

 

 

क्लिंटन ने की थी इसकी शुरुआत
- 1990 के दशक में बिल क्लिंटन ने व्हाइट हाउस में इफ्तार पार्टी की औपचारिक शुरुआत की थी। हालांकि, इसकी वैचारिक जड़ें 1805 में थॉमस जेफरसन से भी जुड़ी बताई जाती हैं। 

- ट्रम्प ने दुनिया भर के मुस्लिमों को रमजान की मुबारकबाद दी। उन्होंने कहा कि मुझे इस बात पर गर्व है मैं राष्ट्रपति के रूप में पहली बार विदेश यात्रा पर मुस्लिम देश गया था। जहां मैंने मुस्लिम बहुमत वाले 50 से ज्यादा नेताओं की सभा को संबोधित किया था। बीते साल जो भागीदारी और एकजुटता कायम हुई वे समय के साथ और मजबूत हुई है। बता दें, पिलछे साल ट्रम्प अपनी पहली विदेश यात्रा पर सऊदी अरब गए थे।

 

ये मेहमान हुए शामिल
- इफ्तार पार्टी में ट्रम्प ने सऊदी राजदूत प्रिंस खालिद बिन सलमान, जॉर्डन के राजदूत दीना कवर और इंडोनेशिया के राजदूत के साथ टेबल शेयर की। 

 

इन देशों के राजदूतों को भी बुलाया
- इफ्तार पार्टी में कई यूनाइटेड अरब अमीरात (यूएई), मिस्र, ट्यूनीशिया, कतर, बहरीन, मोरक्को, अलजीरिया, लीबया, कुवैत, गांबिया, इथोपिया, इराक और बोस्निया के राजदूत को भी दावत दी गई।
- ट्रम्प ने सभी राजदूतों का स्वागत करते हुए कहा कि आप सब की मौजूदगी से हम बेहद सम्मानित महसूस कर रहे हैं। आप सभी का यहां आने के लिए शुक्रिया। 

 

इफ्तार के विरोध में आए कुछ मुस्लिम संगठन
- ट्रम्प की मुस्लिम विरोधी टिप्पणियों के खिलाफ कुछ संगठनों ने इस पार्टी का विरोध किया। उन्होंने व्हाइट हाऊस के बाहर इफ्तार किया। नागरिक अधिकारों से संबंधित इन मुस्लिम संगठनों ने कहा कि ट्रम्प ने अमेरिकन मुस्लिमों के साथ हो रहे भेदभाव को बढ़ावा दिया है। 

 

ट्रम्प ने मुस्लिमों के अमेरिका आने पर लगाई थी रोक
- ट्रम्प ने राष्ट्रपति चुनाव के दौरान मुस्लिमों के अमेरिका में आने का विरोध किया था। सीरिया के शरणार्थियों की तुलना खतरनाक सांपों से की थी।  राष्ट्रपति बनने के बाद उन्होंने पांच मुस्लिम देशों- ईरान, लीबया, सोमालिया, सीरिया और यमन के नागरिकों के अमेरिका आने पर अस्थाई रोक लगा दी थी।

Trump hosts first iftar dinner white house seeks co operation from Muslim world
ट्रम्प की मुस्लिम विरोधी टिप्पणियों के विरोध में कुछ मुस्लिम संगठनों ने व्हाइट हाउस के बाहर इफ्तार किया।
prev
next
Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now