दुनिया के सबसे बेहतरीन 6 अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर इंडियन आर्मी में होंगे शामिल, अमेरिका ने 6340 करोड़ के सौदे को दी मंजूरी

भारत पांचवा ऐसा देश होगा, जिसके पास अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर होंगे।

DainikBhaskar.com| Last Modified - Jun 13, 2018, 01:26 PM IST

1 of
US approves sale of six Apache attack choppers to India
ये हेलीकॉप्टर रात और खराब मौसम में भी बिना किसी रुकावट या परेशानी के अपने टारगेट को हिट कर सकते हैं। - फाइल

  • अप्रैल 1986 में अपाचे को यूएस आर्मी में शामिल किया गया था
  • अमेरिका इराक और अफगानिस्तान में इनका इस्तेमाल कर चुका है

 


वाशिंगटन.   दुनिया के सबसे बेहतरीन अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर इंडियन आर्मी में शामिल होंगे। अमेरिका ने भारत को 6 अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर (एएच-64ई) बेचने की मंजूरी दे दी है।  इनकी कीमत करीब 6340 करोड़ रुपए (930 मिलियन डॉलर ) है। पेंटागन की डिफेंस सिक्योरिटी कोऑपरेशन एजेंसी ने इस संबंध में विदेश मंत्रालय के फैसले को लेकर कांग्रेस को सूचित किया। बताया जा रहा है कि अगर किसी सांसद को इस समझौते पर आपत्ति नहीं होती है तो बिक्री की प्रक्रिया आगे बढ़ने की उम्मीद है। बता दें  इन हेलिकॉप्टर्स को अमेरिकी कंपनी बोइंग बनाती है और इन्हें दुनिया के सबसे बेहतरीन अटैक हेलिकॉप्टर माना जाता है। 

 

 

 

अमेरिकी कंपनी बोइंग की पार्टनर है टाटा
- न्यूज एजेंसी के मुताबिक भारत में टाटा से अमेरिकी कंपनी बोइंग की पार्टनरशिप है। बोइंग की पार्टनर टाटा ने भारत में अपाचे का ढांचा बनाने का काम कर रही है। एएच-64 अपाचे हेलिकॉप्टर का ढांचा हैदराबाद में टाटा बोइंग एयरोस्पेस द्वारा बनाया गया। जिसे एरिजोना में एक जून को बोइंग कंपनी को भेज दिया गया है। लेकिन समझौते को मंजूरी के बाद अमेरिकी निर्माता भारत को सीधे हेलिकॉप्टर बिक्री कर सकेंगे। 

- इस सौदे में सपोर्ट और सेल के लिए लॉकहीड मार्टिन, जनरल इलेक्ट्रिक, लॉन्गबो और रेथिऑन मुख्य कान्ट्रेक्टर हैं। जबकि, अपाचे हेलीकॉप्‍टर के निर्माता बोइंग कंपनी है। 

 

एयरफोर्स की क्षमताओं में होगा इजाफा
- अमेरिकी रक्षा सुरक्षा सहयोग एजेंसी के मुताबिक अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर (एएच-64ई) के भारतीय आर्मी में शामिल होने से जमीनी हथियारों के खतरों का मुकाबला करने में एयरफोर्स की क्षमताओं में इजाफा होगा। 

- अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर करार में सिर्फ हेलिकॉप्टर ही नहीं बल्कि नाइट विजन सेंसर, जीपीएस गाइडेंस, सैकड़ों हेलफायर ऐंटी-आर्मर और हवा से हवा में मार करने वाली स्टिंगर मिसाइलों की बिक्री भी शामिल है।

 

 

एयरफोर्स को क्यों चाहिए अटैक हेलिकॉप्टर्स?
- इंडियन आर्मी लंबे वक्त से अपने लिए अटैक हेलिकॉप्टर्स की तीन स्क्वॉड्रन की मांग कर रही है। आर्मी का कहना है कि इनके मिलने से वो जरूरत पड़ने पर दुश्मन के इलाके में पूरी ताकत और काबिलियत से हमला कर सकती है। 
- आर्मी का ये भी कहना है कि उसे अपने इस बेड़े पर पूरा कंट्रोल मिलना चाहिए। ताकि, वो जहां चाहे इनकी तैनाती कर सके। आर्मी के मुताबिक, एयरफोर्स को इस मामले में बड़े काम लेने पर ही फोकस करना चाहिए। 
- फिलहाल, एयरफोर्स के पास रूस में बने Mi-25/35 अटैक हेलिकॉप्टर की दो स्क्वॉड्रन हैं। लेकिन, अब ये पुराने हो गए हैं।

 

भारत ने 22 अपाचे हेलिकॉप्टर का दिया आर्डर
- भारत के रक्षा मंत्रालय ने इंडिन एयरफोर्स के लिए  सितंबर 2015 में 22 एएच-64 ई अपाचे हेलिकॉप्टर का आर्डर दिया था। जिसकी डिलिवरी 2019 में शुरू होनी है। फिर, अगस्त 2017 में डिफेंस मिनिस्ट्री ने आर्मी के लिए 6 अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर खरीदने के प्रप्रोजल को मंजूरी दी थी। 

 

 

अपाचे क्यों खास?
- अपाचे को यूएस आर्मी के एडवांस्‍ड अटैक हेलीकॉप्‍टर प्रोग्राम के लिए डेवलप किया गया था। इसने पहली उड़ान 30 सितंबर 1975 को भरी थी। अप्रैल 1986 में अपाचे को यूएस आर्मी में शामिल किया गया था। हालांकि, तब ये इतने मॉर्डन नहीं थे, जितने आज हैं। फिलहाल, अपाचे को दुनिया का सबसे खतरनाक अटैक हेलिकॉप्टर माना जाता है। 
- आज ये हेलीकॉप्टर यूएस आर्मी के अलावा इजरायल, मिस्र और नीदरलैंड की आर्मी भी इस्तेमाल करती है। भारत सिर्फ पांचवा ऐसा देश है, जिसके पास अपाचे होंगे।
- इस हेलीकॉप्टर के दोनों तरफ 30 एमएम गन लगी हुई है। इसमें फिट सेंसर दुश्‍मनों को आसानी से तलाश कर उन्‍हें खत्‍म कर सकता है। नाइट विजन सिस्‍टम भी इंस्‍टॉल हैं। इसमें हेलिफायर और स्ट्रिंगर मिसाइलें लगाई गई हैं। जो बिना भटके और राडार की पकड़ में आए दुश्मन के टारगेट को हिट कर सकती हैं। 
- अपाचे में दो टर्बोसॉफ्ट इंजन लगाए गए हैं। अमेरिका इराक और अफगानिस्तान में इनका इस्तेमाल कर चुका है।

US approves sale of six Apache attack choppers to India
ये हेलीकॉप्टर यूएस आर्मी के अलावा इजरायल, मिस्र और नीदरलैंड की आर्मी भी इस्तेमाल करती है। - फाइल
prev
next
Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now