नॉर्थ कोरिया के दौरे पर पहुंचा वीके सिंह, 20 साल में भारत से किसी पहले मंत्री का दौरा

वीके सिंह ने इस दौरान पाकिस्तान से नॉर्थ कोरिया के संबंध और न्यूक्लियर प्रसार को लेकर भी चिंता जताई।

dainikbhaskar.com| Last Modified - May 17, 2018, 01:26 PM IST

V K Singh visit to North Korea in first high-level visit in 20 years
नॉर्थ कोरिया के दौरे पर पहुंचा वीके सिंह, 20 साल में भारत से किसी पहले मंत्री का दौरा

नई दिल्ली. केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह दो दिन के सरप्राइज विजिट पर मंगलवार को नॉर्थ कोरिया पहुंचे। यहां राजधानी प्योंगयांग में उन्होंने यहां के कई मिनिस्टर्स समेत आला आधिकारियों से बातचीत की। उन्होंने इस दौरान पाकिस्तान से नॉर्थ कोरिया के संबंध और न्यूक्लियर प्रसार को लेकर भी चिंता जताई। पिछले 20 साल में वीके सिंह पहले भारतीय मंत्री हैं जिसने नॉर्थ कोरिया का दौरा किया है। 

 

पाकिस्तान से संबंध गहरी चिंता
- वीके सिंह ने प्योंगयांग में बुधवार को सुप्रीम पीपल्स असेंबली के प्रेसिडियम के वाइस प्रेसिडेंट किम योंग दाई, फॉरेन मिनिस्टर, कल्चरल मिनिस्टर और वाइस फॉरेन मिनिस्टर से मुलाकात की। 
- विदेश मंत्रालय के मुताबिक, इस मुलाकात के दौरान दोनों देशों के बीच मौजूदा कूटनीतिक, आर्थिक, शैक्षणिक और संस्कृति से जुड़े सहयोग के मुद्दों पर बातचीत हुई। 
- स्टेटमेंट के मुताबिक, डीपीआरके के अफसरों ने हाल ही में साउथ कोरिया के साथ हुई शांति वार्ता पर बातचीत की अमेरिका से होने वाली बातचीत का जिक्र किया।
- इस दौरान वीके सिंह ने भी नॉर्थ कोरिया और पाकिस्तान के बीच संबंधों पर बातचीत की और इस पर चिंता जाहिर की।
- विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत ने पड़ोसी देश में न्यूक्लियर पावर से जुड़ी तकनीक के इललीगल कारोबार को लेकर अपनी चिंता जताई।
-  इस पर नॉर्थ ने भरोसा दिसाया कि वो मित्र देश के तौर पर भारत की सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी कदम का समर्थन नहीं करेगा।
- दोनों देशों के बीच कई क्षेत्रों में करीबी सहयोग स्थापित करने को लेकर भी बातचीत हुई। यह सहमति भी बनी है कि दोनों देशों की आम जनता के बीच ज्यादा करीबी रिश्ते स्थापित किए जाएं।
- योग और पारंपरिक मेडकिल प्रॉसेस के क्षेत्र में भारत की तरफ से नॉर्थ कोरिया को दी जाने वाली मदद को लेकर भी चर्चा हुई है। 
- वीके सिंह का ये दौर ऐसे वक्त में हुआ है जब अमेरिका प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प और नॉर्थ कोरियन लीडर किम जोन्ग उन के बीच होने वाली 12 जून की बातचीत फिर लटकती दिख रही है।  

 

दौरे के मायने

- विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह के नॉर्थ कोरिया के इस सीक्रेट विजिट को लेकर कई मायने निकाले जा रहे हैं। ऐसा माना जा रहा है कि भारत चीन के रास्ते प्योंगयांग जाकर अमेरिका को ये इशारा करना चाह रहा है कि भारत अपने हितों के मुताबिक ही कूटनीतिक कदम उठाएगा।
- अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन अक्टूबर 2017 में जब दिल्ली आए है। तब भी उन्होंने भारत पर ये दबाव बनाया था कि वो नॉर्थ कोरिया से डिप्लेमैटिक रिश्ते तोड़ लें, लेकिन भारत ने इससे इनकार कर दिया था। 
- वहीं, साल 2016-2017 में भारत नॉर्थ कोरिया का दूसरा सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार देश बन गया था। अब इन शांति वार्ताओं के बीच भारत ये संदेश दे रहा है कि वो भी नॉर्थ कोरिया के साथ द्विपक्षीय रिश्तों को आगे बढ़ाना चाहता है। 

Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now