अब पुरुषों की तरह महिलाएं भी
रख रहीं शेविंग किट

107 साल पहले बना
पहला वुमन सेफ्टी रेजर

कोरोना काल में बॉडी हेयर से निजात पाने
के लिए लड़कियों में शेविंग का चलन बढ़ा,
शेविंग इंडस्ट्री में बूम आया।

कुछ महिलाएं पुरुषों के शेविंग
प्रोडक्ट्स यूज करती हैं, तो कुछ कपल
एक ही शेविंग किट शेयर करते हैं।

अब मार्केट में महिलाओं के लिए खासतौर पर
डिजाइन किए गए रेजर से लेकर शेविंग क्रीम,
जेल और दूसरे शेविंग प्रोडक्ट्स मौजूद हैं।

मेल रेजर की तुलना में महिलाओं के लिए बनाए
गए रेजर ज्यादा एरिया कवर करते हैं, उनकी ग्रिप
कर्वी एरिया में शेविंग के लिए सहूलियत देती है।

इंडिया में शेविंग इंडस्ट्री करीब 305.64 अरब रुपए
तक पहुंच गई है। कंपनियों ने महिलाओं की शेविंग
से जुड़े प्रोडक्ट्स बनाने पर फोकस बढ़ा दिया है।

2022 में ग्लोबल शेविंग मार्केट 2763.94 अरब
रुपए रहा। 2027 तक दुनिया भर में शेविंग मार्केट
के 3341.35 अरब रुपए पहुंचने का अनुमान है।

दुनिया भर में सिर्फ रेजर मार्केट
के ही 2030 तक 1858.60 अरब रुपए
पहुंच जाने का अनुमान है

2022 में ग्लोबल वुमन रेजर मार्केट
327.94 अरब रुपए रहा। 2028 तक वुमन रेजर
का कारोबार दुनिया में 436.15 अरब रुपए
पार होने का अनुमान है।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here