बिहार का मखाना
खाती है दुनिया

Food

मिथिला के मखाना को जियोग्राफिकल
इंडिकेशन टैग मिल चुका है। हेल्दी रहने के
लिए आप भी एक मुट्ठी मखाना रोस्ट
कर नाश्ते में खाएं।

अगर ड्राई फ्रूट्स डालकर मेवे की
खीर बना ली जाए, तो उसमें अलग से चीनी
डालने की जरूरत नहीं पड़ती। मखाना
चावल की जगह ले लेता है।

मखाना में कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस,
आयरन, फाइबर, मैंग्नीज, पोटैशियम, प्रोटीन,
कार्बोहाईड्रेट, स्टार्च जैसे पोषक तत्व होते हैं।

मखाना एंटी एजिंग है। यह कब्ज,
नींद न आने की समस्या, डायबिटीज, गठिया और
प्रसव के बाद होने वाले दर्द में फायदेमंद है।

मखाना कमजोरी दूर करता है। दिल,
मसूढ़ों और हडि्डयों के लिए अच्छा। वजन
और ब्लड प्रेशर कंट्रोल करता है।

ज्यादा मखाना खाने से एलर्जी,
ब्लोटिंग, डायरिया और कोल्ड फ्लू की समस्या
बढ़ सकती है। गैस, पथरी या किडनी से
जुड़ी समस्या है तो मखाना न खाएं।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here