बीमारियों से बचने का आसान तरीका

बैठकर खाना बनाने के फायदे

हमारी दादी-नानी बैठकर खाना बनाती थीं,
जिसके कई हेल्थ बेनिफिट्स हैं। आप भी ऐसा
करके कई बीमारियों से बच सकती हैं।

बैठकर खाना
बनाना एक तरह की स्ट्रेचिंग एक्टिविटी है, जिससे
महिलाओं के पेट, पीठ और हिप की मसल्स पर
प्रेशर पड़ता है और वो मूवमेंट में रहते हैं। 

दिनभर में तीन से चार बार बैठकर खाना-नाश्ता
बनाने से महिलाओं का पेट नहीं बढ़ता, मोटापा नहीं
चढ़ता और लोअर बैक की तकलीफ नहीं होती।

जो महिलाएं बर्तन, कपड़े, झाड़ू-पोछा का काम भी
बैठकर करती हैं, उनकी अच्छी-खासी एक्सरसाइज
हो जाती है, उनका शरीर स्लिम-फिट रहता है।

किचन में देर तक खड़े रहकर काम करने से
बैक में कर्व बढ़ता है, बॉडी पोस्चर बिगड़ता है,
बैक पेन की तकलीफ होती है।

सब्जी काटने, आटा गूंधने जैसे काम डायनिंग
एरिया या लिविंग रूम में करें और कोशिश करें
कि ये काम आप पीढ़े या चटाई पर बैठकर करें।

पद्मासन, बटरफ्लाई, पवनमुक्तासन और
मत्स्यासन ये चार योगासन से आप बैक, लोअर
बैक और पेट की मसल्स को स्ट्रांग बना सकती हैं।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here