कलर ब्लाइंड लोगों के लिए भी कारगर थेरेपी 

ग्रीन लाइट में रहने से
पुराना दर्द गायब

ड्यूक यूनिवर्सिटी के एक शोध में सामने
आया कि ग्रीन लाइट में कुछ समय बिताने पर
हर तरह का दर्द कम या खत्म हो जाता है।

शोध में ये भी दावा किया गया है कि ग्रीन
लाइट थेरेपी का कोई साइड इफेक्ट नहीं है।

शोधकर्ता डॉ पदमा गुलर ने मांसपेशियों
के दर्द से पीड़ित मरीजों को अलग-अलग रंग के
चश्मे पहनने को दिए और लाइट में रखा। 

जिन मरीजों ने ग्रीन कलर का चश्मा पहना था,
उनमें दर्द और चिंता कम हो गई। यहां तक कि
कुछ लोगों ने पेन किलर्स लेना बंद कर दिया। 

स्टडी में पता चला कि ग्रीन लाइट नर्व
सेल के रास्ते आंखों से होते हुए ब्रेन तक जाती है,
जिससे ब्रेन में दर्द पर काबू पाने वाले हिस्से को
सिग्नल मिलता है और दर्द कम हो जाता है।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here