देवांशी को कई महाग्रंथ भी कंठस्थ हैं

संगीत, स्केटिंग,
मेंटल मैथ्स में एक्सपर्ट

Trending

सूरत के हीरा व्यापारी धनेश-अमी बेन की
9 साल की बेटी देवांशी ने संन्यास ले लिया।

देवांशी का दीक्षा महोत्सव वेसू में
14 जनवरी को शुरू हुआ।

देवांशी ने 35 हजार से ज्यादा लोगों
की मौजूदगी में जैनाचार्य कीर्तियशसूरीश्वर
महाराज से दीक्षा ली।

सूरत में ही देवांशी की वर्षीदान यात्रा निकाली
गई थी। इसमें 4 हाथी, 20 घोड़े, 11 ऊंट थे।
इसके पहले मुंबई और एंट्वर्प में भी
देवांशी की वर्षीदान यात्रा निकली थी।

देवांशी ने 8 साल की छोटी उम्र
में ही 357 दीक्षा दर्शन, 500 किलोमीटर
पैदल यात्रा पूरी कर चुकी हैं।

5 भाषाओं की जानकार देवांशी  संगीत, स्केटिंग,
मेंटल मैथ्स और भरतनाट्यम में एक्सपर्ट हैं।

देवांशी को वैराग्य शतक और तत्वार्थ
के अध्याय जैसे महाग्रंथ भी कंठस्थ हैं।

कई लोग इतनी छोटी सी उम्र में देवांशी के
संन्यासी बनने को लेकर हैरान हैं।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here