जो बाइडेन हैं डिमेंशिया के शिकार

सत्ता के लालच में छुपाई
गंभीर बीमारियां

बीते कुछ दिनों से बाइडन की हेल्थ और
फिटनेस को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं।

कुछ महीने पहले वे हवा में अकेले ही
हाथ मिलाते दिखे। ऐसा पेंसिल्वेनिया यूनिवर्सिटी
में एक सभा को संबोधित करने के दौरान हुआ,
जबकि स्टेज पर उनके अलावा कोई नहीं था।

घटना का वीडियो वायरल होने के बाद
लोग सवाल करने लगे कि क्या अमेरिकी
राष्ट्रपति डिमेंशिया की बीमारी छिपा रहे हैं।

पहले भी ऐसे कई मामले आ चुके हैं,
जब पद पर बने रहने के लिए राष्ट्रपति
जानलेवा बीमारियां छिपाते रहे।

अमेरिका में दो कार्यकाल तक राष्ट्रपति
रह चुके ग्रोवर क्लीवलैंड ने बीमारी छिपाने
की सारी हदें पार कर दी थीं।

मुंह के कैंसर की तीसरी स्टेज में ग्रोवर
क्लीवलैंड ने जहाज में सर्जरी करवाई थी और
बहाना बनाया कि वे छुट्टियां मना रहे हैं।

उस समय क्लीवलैंड ठीक होकर लौटे,
लेकिन जल्द ही उनकी मौत हो गई। माना जाता है
कि ये समुद्री सर्जरी का नतीजा था, जिसकी वजह
से ऑपरेशन सक्सेसफुल नहीं रहा।

तीन बार लगातार अमेरिका के राष्ट्रपति
रह चुके फ्रैंकलिन रूजवेल्‍ट को 40 साल
की उम्र में पोलियो हुआ।

ये वो समय था, जब पोलियो के
कारण लाखों जानें जातीं, और जो
बचते वे अपाहिज हो जाते थे।

रूजवेल्ट ने जब अपने पहले कार्यकाल के
लिए दावेदारी की, तब वे व्हीलचेयर पर ही थे।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here