LGBTQ, मैरिटल रेप पर दिए अहम फैसले 

कड़े ऐतिहासिक फैसले लेने
वाले जस्टिस चंद्रचूड़ 

जस्टिस चंद्रचूड़ ने चीफ जस्टिस यूयू ललित
के रिटायरमेंट के बाद CJI का पद संभाला है।
जस्टिस चंद्रचूड़ इन फैसलों के लिए फेमस हैं ।

भीमा कोरेगांव हिंसा मामले की सुनवाई के
दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने टिप्पणी की थी,
'असहमति लोकतंत्र का सेफ्टी वॉल्व है।' 

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर
उन्होंने टिप्पणी, 'धर्म की आड़ में महिलाओं
को अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता।' 

एक अहम फैसले में उन्होंने कहा कि धारा-377
के तहत दो बालिगों के बीच बनाए गए समलैंगिक
संबंध अपराध नहीं माने जाएंगे।

चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली बेंच ने फैसला दिया,
'मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट के तहत
रेप के दायरे में मैरिटल रेप भी आएगा।' 

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here