एयर पॉल्यूशन होता है कम

रिमोट से छोड़िए E-पटाखा

CSIR-NEERI के वैज्ञानिकों ने E-लड़ी, E-अनार,
E-स्पार्कल तैयार किए हैं। इनमें ग्रीन पटाखों
की तरह शोर और प्रदूषण कम होता है।

महिलाओं ने इस प्रोजेक्ट को तैयार किया है।
E-पटाखों के डिजाइन, मॉडल, स्ट्रक्चर और
केमिकल कंपोनेंट पर ध्यान दिया गया है।

E-क्रैकर्स रिमोट के जरिए छोड़े जाने वाले
क्रैकर्स हैं। जलने पर ये धुआं नहीं करते और
न ही हानिकारक PM2.5 ही निकलता है।

E-क्रैकर्स हाई वोल्टेज इलेक्ट्रोस्टैटिक डिस्चार्ज
के सिद्धांत पर काम करता है, इसी के जरिए
लाइट या साउंड इफेक्ट होता है।

इसमें छोटे-छोटे पॉड्स होते हैं जो एक-दूसरे
से वायर से जुड़े होते हैं। पॉडस पर LED लाइट्स
लगी होती हैं, प्लग लगाते ही स्पार्क होता है
जो रंग-बिरंगी रोशनी बिखेरता है।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here