जज बोले- सहमति का मामला, पति
के दबाव में दर्ज की FIR

दुष्कर्म का आरोपी बरी

हरियाणा के फतेहाबाद में फास्ट
ट्रैक कोर्ट के जज बलवंत सिंह ने दुष्कर्म
के आरोपी को बरी कर दिया। 

अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश
बलवंत सिंह ने फैसले में कहा- अकेला व्यक्ति
एक हाथ से सशक्त महिला का मुंह दबाकर
रेप नहीं कर सकता।

जज ने कहा कि ऐसा नहीं हो सकता कि
एक हाथ से इतना मुंह दबा दिया, जो महिला
अपने बचाव में चिल्ला भी नहीं पाई।

कोर्ट ने माना कि मामला सहमति से
संबंध का है। जब महिला के पति को संबंधों
का पता चला तो उसने पत्नी पर दबाव डालकर
पड़ोसी पर रेप के आरोप लगवाए।

26 जून को टोहाना की 36 वर्षीय एक महिला
ने अपने पड़ोसी बलविन्द्र के खिलाफ FIR दर्ज
कराई, जिसमें कहा कि आरोपी ने 5 और 6 अप्रैल
2021 को घर में घुसकर उसका रेप किया।

महिला ने कहा था कि रात करीब
10-11 बजे घर के आंगन में किसी के कूदने
की आवाज सुन वह कमरे से बाहर आई। देखा
तो आंगन में बलविन्द्र खड़ा था।

बलविन्द्र उसके पास आया और उसका
मुंह दबाकर उसे कमरे में ले गया। उसकी बेटियां
दूसरे कमरे में सो रही थीं। पति जो टाटा एस
चलाता है और शहर से बाहर था।

बलविन्द्र ने अगले दिन फिर दुष्कर्म किया।
​मुंह खोलने पर उसके परिवार के सदस्यों को
खत्म करने की धमकी दी।

महिला ने ढाई महीने बाद थाने में शिकायत
की और कहा कि घटना से सदमे में थी, इसलिए
शिकायत करने में देरी हुई। कोर्ट ने कहा कि
महिला का दावा विश्वास योग्य नहीं।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here