वैदिक काल का विचार जल्द बनेगा मेडिकल साइंस का चमत्कार

प्रेग्नेंट होंगे पुरुष, ब्रेस्टफीडिंग भी कराएंगे

मेडिकल साइंस को पुरुषों के प्रेग्नेंट होने का
सबसे पहला आइडिया फिलॉस्फर जोसेफ फ्लेचर
 ने दिया था। उन्हें बायोएथिक्स का पितामह
 कहा जाता है।

जोसेफ फ्लेचर ने 1974 में अपनी किताब 'द एथिक्स ऑफ जेनेटिक कंट्रोल' में आइडिया दिया कि पुरुष यूट्रस ट्रांसप्लांट के जरिए प्रेग्नेंट हो सकते हैं।

शिवजी के शाप के कारण स्त्री में बदले राजा
ईल अपना नाम ईला रख लेते हैं। बुध से विवाह
 के बाद ईला ने पुरुरवा को जन्म दिया, जिनका
 जिक्र ऋग्वेद में है।

चीन की नेवल मेडिकल यूनिवर्सिटी, शंघाई के रिसर्चर्स ने जून, 2021 में एक रिपोर्ट पब्लिश की। उन्होंने एक नर चूहे में यूट्रस ट्रांसप्लांट किया। प्रेग्नेंट हुए नर चूहे ने 10 बच्चों को जन्म दिया।

कुछ रिप्रोडक्टिव ऑर्गन्स को छोड़ दें, तो
महिलाओं और पुरुषों के शरीर में अंतर
 कम और समानताएं ज्यादा हैं। दोनों में
एक समान अंग, एक जैसी हार्मोनल ग्लैंड्स
और इमोशंस होते हैं।

महिलाओं की तरह ही पुरुषों के चेस्ट में भी
 निपल्स, मैमरी ग्लैंड्स, पिट्‌यूटरी ग्‍लैंड्स
और लैक्टेशन के लिए जरूरी हॉर्मोंस होते हैं,
जिससे वे बच्चे को अपना दूध पिला सकते हैं। 

सैन फ्रैंसिस्को में रिप्रोडक्टिव एंडोक्रिनोलॉजिस्ट डॉ. एमी संभावना जताती हैं कि भविष्य में इंसानों के अस्तित्व पर कोई खतरा आया, तो पुरुष भी प्रेग्नेंट होकर आबादी बढ़ाने में मदद कर सकेंगे।

लाइफ & स्टाइल की और
 स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here