नेपाल बना सबसे खतरनाक देश

पुराने विमान
अनुभवहीन पायलट

नेपाल में जिस विमान ATR 72-500 का
हादसा हुआ है, ये एयरक्राफ्ट सीरीज का
हिस्सा है। इस मॉडल का पहला
विमान 1981 में बना था।

इस हादसे के बाद एक बार फिर नेपाल में
उड़ानों के जोखिम पर चर्चा शुरू हो गई है।
पिछले 30 सालों में नेपाल में ये
28वां प्लेन क्रैश है।

नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण की
 2019 की सुरक्षा रिपोर्ट के अनुसार, नेपाल के
 पहाड़ पायलटों के सामने ‘बड़ी चुनौती’ हैं।

नेपाल के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण की
 2019 की सुरक्षा रिपोर्ट के अनुसार, नेपाल के
 पहाड़ पायलटों के सामने ‘बड़ी चुनौती’ हैं।

नेपाल में दुनिया के 14 सबसे ऊंचे पहाड़ों में
से माउंट एवरेस्ट समेत 8 स्थित हैं। रिपोर्ट के
 मुताबिक, नेपाल का एकमात्र इंटरनेशनल
एयरपोर्ट समुद्र तल से 1,338 मीटर ऊपर
एक संकरी घाटी में है।

पहाड़ की वजह से विमानों को मुड़ने के लिए
काफी तंग जगह मिलती है। नेपाल के पूर्वोत्तर में
स्थित लुक्ला शहर का एयरपोर्ट दुनिया के
सबसे खतरनाक एयरपोर्ट में से एक है।

इस एयरपोर्ट को एवरेस्ट का प्रवेशद्वार भी
 कहा जाता है। एयरपोर्ट के रनवे को पहाड़ों के
 बीच एक चट्टान को काटकर बनाया गया है।

लुक्ला हवाई अड्डे के रनवे के एक
छोर पर पहाड़ तो दूसरे छोर पर खाई है।
 ऐसे में सिर्फ अल्ट्रा ट्रेंड पायलटों को ही इस
 हवाई अड्डे पर विमान उतारने और उड़ान
भरने की इजाजत है।

पहाड़ों में मौसम तेजी से बदलता है
और पायलटों को विमान को नेविगेट
करना मुश्किल हो जाता है।

बर्फबारी से रनवे काफी खतरनाक हो
जाता है। इन परिस्थितियों में पायलटों से
 होने वाली थोड़ी चूक भी इसे जानलेवा
बना सकती है।

बर्फबारी से रनवे काफी खतरनाक हो
जाता है। इन परिस्थितियों में पायलटों से
 होने वाली थोड़ी चूक भी इसे जानलेवा
बना सकती है।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here