ऐसे तय किया जाता है हंगर इंडेक्स

हंगर इंडेक्स में 107वें
पर पहुंचा भारत

ये रिपोर्ट जर्मनी और आयरलैंड के गैर-सरकारी
संगठन मिलकर जारी करते हैं।

इन दोनों संस्थाओं का मुख्य मकसद दुनियाभर
के अलग-अलग देशों में 4 पैमानों पर गरीबी
और भुखमरी के बारे में पता करना है।

अंडरनरिशमेंट यानी एक स्वस्थ व्यक्ति को दिनभर
के लिए जरूरी कैलोरी नहीं मिलने को कुपोषण हैं,
जो हंगर इंडेक्स नापने का पहला पैमाना है।

बाल मृत्यु दर हंगर इंडेक्स नापने का दूसरा पैमाना है।
इसमें उन बच्चों का डाटा लिया जाता है, जिनकी
मौत जन्म के 5 साल की उम्र के भीतर हो गई।

उम्र के हिसाब से वजन और लंबाई कम होना
भी हंगर इंडेक्स नापने के दो और पैमाने हैं।
इसमें बच्चों की उम्र के अनुसार उनकी हाइट और
वेट मॉनिटर किया जाता है।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here