सफाई का गलत तरीका फैला सकता है इंफेक्शन

प्राइवेट पार्ट्स में इंफेक्शन से सर्वाइकल कैंसर का खतरा

फीमेल्स में अगर यूरेथ्रा यानी यूरिनल
ओपनिंग, वेजाइनल ओपनिंग और रेक्टम के बीच
दूरी कम है, तो बैक्टीरिया और वायरस एक
से दूसरे अंग तक पहुंच सकते हैं।

इसलिए फीमेल प्राइवेट पार्ट्स की सफाई
के लिए 'फ्रंट टू बैक' तरीका अपनाएं। टॉयलेट
जाने के बाद प्राइवेट पार्ट के हर हिस्से की
सफाई अलग-अलग करें।

सबसे पहले यूरेथ्रा, फिर वेजाइनल पार्ट
और आखिर में रेक्टम की सफाई कर सकते हैं।
पहले एक हिस्सा साफ करें, टॉयलेट पेपर फेंक
दें और फिर दूसरा हिस्सा साफ करें।

इंटरकोर्स के बाद यूरिन के लिए जाएं, पानी
से सफाई करें, इंटर्नल वॉशिंग या स्क्रबिंग न करें।
ऐसे सफाई करने से रेक्टम के कारण यूरिनरी
ट्रैक्ट इन्फेक्शन का खतरा कम हो जाता है।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here