DCW चेयरपर्सन की लाइफ स्टोरी

सरकार को झुकाने
वाली स्वाति

दिल्ली महिला आयोग की चेयरपर्सन
 स्वाति मालीवाल महिलाओं के हक के
लिए लड़ती हैं। 

दिल्ली में 8 साल की बच्ची से रेप,
कठुआ गैंगरेप के विरोध में स्वाति
10 दिन के अनशन पर बैठीं। 

अनशन के 10वें दिन सरकार को स्वाति की
 मांग के आगे झुकना पड़ा। छोटे बच्चों से रेप
के मामले में फांसी की सजा का कानून बना। 

कानून बनने के बाद अमल में नहीं आया। इसके
लिए स्वाति मालीवाल ने दोबारा अनशन किया। 

वहीं हैदराबाद में फिजियोथेरेपिस्ट
से रेप के बाद स्वाति 13 दिन के
आमरण अनशन पर बैठीं। 

स्वाति की पर्सनल लाइफ उतार-चढ़ाव से
भरी रही। टॉक्सिक शादी से खुद को
 आजाद कर उन्होंने अपने ऊपर काम किया । 

योग, मेडिटेशन और विपश्यना
 से स्वाति खुद को फिजिकली
और मेंटली फिट रखती हैं। 

स्वाति के पास डेली करीब 500 शिकायतें
आती हैं। उनका कहना है कि मैं सिर पर
कफन बांधकर काम करती हूं। 

लाइफ & स्टाइल की और
 स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here