बांस का सूप सबसे महत्वपूर्ण

छठ में क्या है सूप का महत्व 

छठ पूजा में इस्तेमाल होने वाले बांस से बने सूप
का शास्त्रों में विशेष महत्व है। बांस को शुद्धता
और पवित्रता का प्रतीक माना जाता है।

बांस से बने सूप और दउरा में फल और ठेकुआ
सजा कर व्रती सुर्यदेव की उपासना करती हैं।

बांस एकमात्र ऐसी घास है, जो सबसे तेजी से
बढ़ती है। बांस को सुख-समृद्धि का भी प्रतीक माना जाता है।

पौराणिक कथाओं के अनुसार छठ पूजा के
दिन सूप से अर्घ्य देने से भगवान सूर्य देव
परिवार की रक्षा करते हैं।

मान्यता है कि जिस प्रकार बांस बिना किसी
रुकावट के तेजी से बढ़ता है उसी प्रकार वंश
की भी तेजी से वृद्धि होती है।

कई लोग किसी मन्नत के पूरा होने पर कहे और
अपनी क्षमता अनुसार पीतल, चांदी या सोने के
सूप से भी दीनानाथ को अर्घ्य चढ़ाते हैं।

लाइफ & स्टाइल की और
स्टोरीज के लिए क्लिक करें

Click Here